अन्तर्राष्ट्रीय खबरें

बोलिविया की सेक्सवर्कर्स रेनकोर्ट का इस्तेमाल क्यों कर रही हैं

BBC लैटिन अमरीकी देश बोलिविया में कई यौनकर्मियों का कहना है कि वो अपने काम पर दोबारा लौट रही हैं, लेकिन सुरक्षा के लिए वो ब्लिच, दस्ताने और पारदर्शी रेनकोर्ट का इस्तेमाल कर रही हैं. उनका कहना है कि सेक्सवर्करों के लिए काम करने वाली ऑर्गनाइज़ेशन ऑफ़ नाइट वर्कर्स ऑफ़ बोलिविया (ओटीएन-बी) के निर्देशों पर वो ऐसा कर रही हैं और इससे उन्हें सुरक्षित रहने में मदद मिलेगी. बोलिविया में देह व्यापार क़ानूनी है, लेकिन सिर्फ लाइसेंस प्राप्त वेश्यालयों में ही नियमों के साथ इसकी इजाज़त है. कोरोना महामारी के कारण मार्च में यहाँ भी पूरा लॉकडाउन लागू कर दिया गया था लेकिन अब उनमें छूट दे दी गई है. लेकिन अभी भी यौनकर्मियों पर दिन में कई तरह की पाबंदी लगी हुईं हैं और रात में कर्फ़्यू लगा रहता है. वेनेसा भी एक यौनकर्मी हैं, जिनके दो बच्चे हैं. वो बताती हैं कि उन्हें अपने बच्चों की शिक्षा के लिए काम करना ज़रूरी है.

एक और यौनकर्मी एनटोनिएटा बताती हैं कि वो पेपर फ़ेस मास्क, प्लास्टिक का पर्दा, दस्ताने और रेनकोर्ट इस सबका इस्तेमाल कर रही हैं. वो वेश्यालय में अपने ग्राहकों के सामने डांस करते वक्त सैनिटाइज़ेशन के लिए उन खंभों पर ब्लिच का छिड़काव भी करती हैं. वो बताती हैं, “बायो-सुरक्षित सूट से हम अपना काम भी कर सकेंगे और सुरक्षित भी रहेंगे.” ओटीएन-बी के लोगों ने पिछले महीने स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाक़ात करी थी और उन्हें यौनकर्मियों को सुरक्षित रहने से संबधित 30 पेजों का एक मैनुअल भी सौंपा गया था. बोलिविया में अभी तक 50 हज़ार कोरोना संक्रमितों की पुष्टि हो चुकी है और अब तक क़रीब 1900 लोगों की मौत हो चुकी है. पिछले सप्ताह बोलिविया की अंतरिम राष्ट्रपति जीनिन आनेज़ शावेज़ से ट्वीट कर बताया था कि वो भी कोरोना से संक्रमित हो गईं हैं, लेकिन इस बारे में चिंता जताई जा रही है कि बोलिविया में कोरोना के ज़्यादा टेस्ट नहीं हो रहे हैं. बोलिविया लैटिन अमरीका के सबसे ग़रीब देशों में से एक है. आँकड़े बताते हैं कि 10 लाख की आबादी पर यहाँ सबसे कम कोरोना टेस्ट हुयें हैं .

चीन नेपाल के नेताओं को लड़कियों से काबू कर रहा “हनीट्रैप”

DMCA.com Protection Status

Tags
आगे पढ़ें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close